©2018 by Soch Theatre Group. Proudly created with Wix.com

जंगल में दफ्तर

August 11, 2018

कविता 

 

जंगल में दफ्तर 

 

 

चश्मा टांगा, टाई लगायी,                      

पहना सूट सफारी ।                      

कुर्सी-मेज बिछाकर,                     

बंदर बन बैठा अधिकारी ।              

 

बिल्ली को दी डिक्टेशन,                 

बकरी को डाक-डायरी ।                 

बना सहायक हाथी को                     

दी फाइलें उसको सारी ।                

 

लेखापाल बनाया भालू,                  

स्वागती हिरनी प्यारी ।               

ट्रेज़रार गीदड़ को बनाया,              

गैंडे को भंडारी ।                          

 

चपरासी पद दिया गधे को,             

कुत्ते को रखवारी,                                                 

सब को रोजी बांट मिटा दी,              

जंगल की बेकारी ।                        

 

विजय सहगल

Please reload

Our Recent Posts

अपना -अपना निष्कर्ष

August 13, 2018

इतवार

August 11, 2018

जंगल में दफ्तर

August 11, 2018

1/1
Please reload

Tags